काय ऐकताय?

Submitted by रमा. on 19 July, 2014 - 08:59

कुठलं गाणं ऐकताय आत्ता? हिंदी, मराठी, इतर कुठल्या भाषेतली? कुठलं गाणं घोळतय मनात आणि वाजतय तुमच्या प्लेलिस्ट वर?

विषय: 
Groups audience: 
Group content visibility: 
Public - accessible to all site users

चित्रपट : टायगर झिंदा है.
वर्ष : २०१७
गायक : आतिफ असलम
गीतकार : इर्शाद कामिल
संगीत : विशाल शेखर
************************************************************************

कच्ची डोरियों, डोरियों, डोरियों से
मैनु तू बांध ले
पक्की यारीयों, यारीयों, यारीयों में
होंदे ना फासले
ये नाराज़गी कागज़ी सारी तेरी
मेरे सोणेया सुन ले मेरी
दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
आँख नाले आँख नू मिला के

दिल दियां गल्लां हाय
करांगे रोज़ रोज़ बह के
सच्चियाँ मोहब्बतां निभा के

सताये मैनु क्यों
दिखाए मैनु क्यों
ऐवें झूठी मुट्ठी रूस के रूसाके
दिल दियां गल्लां हाय
करांगे नाल नाल बह के
अख नाले आँख नू मिला के

(तेनु लाखां तों छुपा के रखां
अक्खां ते सजा के तू ऐ मेरी वफ़ा
रख अपना बना के
मैं तेरे लइयां तेरे लइयां यारा
ना पाविं कदे दूरियां (२))

मैं जीना हाँ तेरा..
मैं जीना हाँ तेरा
तू जीना है मेरा
दस् लेना की नखरा दिखा के
दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
आँख नाले आँख नू मिला के
दिल दियां गल्लां

रातां कालियाँ, कालियाँ, कालियाँ ने
मेरे दिल सांवले
मेरे हानियां, हानियां, हानियां जे
लग्गे तू ना गले

मेरा आसमा मौसमां दी ना सुने
कोई ख़्वाब ना पूरा बुने
दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
आँख नाले आँख नू मिला के

पता है मैनु क्यों छुपा के देखे तू
मेरे नाम से नाम मिला के
दिल दियां गल्लां
करांगे नाल नाल बह के
आँख नाले आँख नू मिला के

दिल दियां गल्लां..

वरील गाणी काढून उद्या ऐकणार.
विष्णुमय जग भारीच. तपत्या झळा उन्हाच्या हेही अप्रतिम.
कुमारांची सर्वच निर्गुणी भजने मस्तच. बिन सतगुरू नर रहत किंवा जहा बैठू वहा छाया दे ही तर खासच.

माचिस मधलं चप्पा चप्पा सध्य अरिपिट मोड वर आहे, प्रत्येक शब्द लक्ष देउन ऐकला की नव्याने समजतोय आणि आवडतोय.

या गाण्याने मन भरलं की छैय्या छैय्या रिपिट वर ऐकणार आणि मग मायरी

च्रप्स Happy

लव्ह यात्री <<< छान आय डी सुचवलात. धन्स.